Category: Hindi Poetry

These posts include my poems written in Hindi and Urdu (using Devanagari script) and express my take on all that I observe around me. Every day, every person and every event is a new learning!

8

वन्दे मातरम्

Play to listen त्राहि माम की लगी गुहार जब पहुंची वह पहली बार देवभूमि के इक छोटे गाँव जहाँ धरा न अब तक पाँव सत्तर साल से हाथ ने बस लगा रहा उत्पात में...

0

आदि शंकर के घर में

केरल में केवल  गौ हत्या ? घर आदि शंकर का हुआ अपवित्र बर्बरता उनकी प्रकट हुई कपट से जिन्होंने उकेरे भारत के अनेक असहिष्णु  चित्र केरल में केवल  गौ हत्या ? घर आदि शंकर...

2

हम देखेंगे

Play to listen हम देखेंगे के अब कोई ना देखेगा वह ज़ुल्म जिहाद का ज़लज़ला जिसका तुमको अब भी है गुमाँ अब के कोई ना देखेगा इस बार तो हम यह देखेंगे हम देखेंगे...

8

अयोध्या के राम

Play to listen रामचंद्र कह गए सिया से ऐसा कलियुग आएगा रामायण की भूमि में प्रमाण, राम का, माँगा जायेगा राम राज्य सा राज नहीं सो राम भरोसे, चल रहे हम भले राम-राम से...

4

Oddri का ज़ेबू

Sarabai Vs Sarabai used to one of my favourite shows on TV! I am  a fan of Rosesh & his poetry. Recently, I read a book by a scholar and was awestruck, wonderstruck and almost killed...

2

मोदी सरकार

पांच साल में एक बार हमने जमके किया प्रचार राजनैतिक कीचड में खिला कमल चुन ली एक बहुमत सरकार   Outsourcing के हम king बैंठेंगे outside the रिंग Money मेरे भाई is everything Now...

2

For the Apostate Nationalist

राष्ट्रवाद और देशभक्ति  तज सभयता का आवरण बदल अपना आचरण कलुषित किया तुमने जिसे वह थी स्वयं मर्यादा शब्दों की माला जोड़कर अभिमान की अग्नि प्रखर में तर्क ऐसे चल बसे रह गया सत्य...

2

For The Shiva Of Shivistan

This is my tribute to Bhole Baba (Shiva of Shivistan) – of course, inspired by the track that has brought Sindh closer home! ओ हो O ho हो हो Ho ho ho हो लाल...

4

Freedom of Expression

Play to listen अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता वामपंथ के पाश में उद्दंड उन्माद से देश को धिक्कारती अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता विद्या का तिरस्कार निस्संकोच सहर्ष स्वीकार माँ का अमंगल मांगती अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता अलगाववाद से...

6

Padmini

धीमी धीमी धिम्मिवाद की घिर आई निशा है काली भारत सुत कहे गर्व से #Istandwithबलशाली चलचित्र की लीला चाहे बदलना यों इतिहास वीरांगनाओं के जौहर का करने को इच्छुक परिहास पद्मावत को काव्य बताते...