Hum Dekhenge

Hum Dekhenge

Play to listen

हम देखेंगे

के अब कोई ना देखेगा

वह ज़ुल्म जिहाद का ज़लज़ला

जिसका तुमको अब भी है गुमाँ

अब के कोई ना देखेगा

इस बार तो हम यह देखेंगे

हम देखेंगे

के अब कोई ना देखेगा

वह दिन जब दीन हुआ हावी

हैवानियत की उडी आंधी

सेहरा से सूखी रूह लिए

दर पर दस्तक दहशत ने दी

अब के कोई ना देखेगा

इस बार तो हम यह देखेंगे

हम देखेंगे

के अब कोई ना देखेगा

देकर जब हवाला काबे का

बुत तोड़े गए, उठवाये गए

मुस्तकबिल की बुनियाद को जब

बाज़ारों में नीलाम किया

और समझे कि खुद का नाम किया

अब के कोई ना देखेगा

इस बार तो हम यह देखेंगे

हम देखेंगे

शान हमारे भारत की

माँ हिन्द के सब बाशिंदों की

भारत माँ की जय का नारा

गूँजेगा कोने कोने से

नफरत की हाट लगाए जो

बैठा है घात लगाए जो

उस शख्स, सोच, इरादे को

कर नेस्तोनाबूद , इस दुनिया से

रुख़सत होते

हम देखेंगे

इस बार तो हम यह देखेंगे

– @dimple_kaul